माइक्रोसॉफ्ट का खुलासा, रूसी और उत्तर कोरियाई हैकरों ने की वैक्सीन डाटा चुराने की कोशिश

दिग्गज टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने खुलासा करते हुए कहा है कि रूसी और उत्तर कोरियाई हैकरों ने अग्रणी दवा कंपनियों और टीका अनुसंधानकर्ताओं के बहुमूल्य डाटा को चुराने की कोशिश की है। कंपनी ने शुक्रवार को एक ब्लॉग पोस्ट में कहा कि हाल के महीनों में किए गए ज्यादातर साइबर हमले विफल रहे। ये हमले राज्य समर्थित रूसी और उत्तर कोरियाई हैकरों ने अग्रणी दवा कंपनियों और टीका अनुसंधानकर्ताओं के बहुमूल्य डाटा को चुराने के प्रयास में किए थे।

प्रौद्योगिकी कंपनी ने हालांकि यह नहीं बताया कि इनमें से कितने हमले सफल हुए या ये हमले कितने गंभीर थे। अमेरिका सरकार ने आपराधिक आरोपों की घोषणा करते हुए जुलाई में कहा था कि चीन के राज्य समर्थित हैकर टीका निर्माताओं को निशाना बनाते रहे हैं।

माइक्रोसॉफ्ट ने कहा कि हैकरों ने जिन प्रतिष्ठानों को निशाना बनाया है, उनमें से ज्यादातर कनाडा, फ्रांस, भारत, दक्षिण कोरिया और अमेरिका में कोविड-19 संबंधी टीका और दवा अनुसंधान के कार्य से सीधे तौर पर जुड़े हैं।

कंपनी ने राज्य समर्थित एक हैकर समूह की पहचान ‘फैंसी बीयर’ के रूप में की है जिन्हें रूसी सैन्य एजेंट बताया जा रहा है। वहीं, दो अन्य की पहचान उत्तर कोरिया के ‘लैजारुस ग्रुप’ और ‘सेरियम’ के रूप में हुई है।

Source link